Breaking News
वाटसन का आईपीएल-11 में दमदार शतक, चेन्नई ने बनाये 204 रन         ||           जेटली ने कहा कांग्रेस राजनीतिक हथियार के तौर पर महाभियोग का कर रही है प्रयोग         ||           सीए ने कहा इंग्लैंड दौरे से पहले होगी नए कोच, वनडे कप्तान की घोषणा         ||           गेल ने कहा सहवाग ने मुझे चुनकर आईपीएल को बचा लिया         ||           राहुल गाँधी ने न्यायाधीश लोया मामले पर कहा, भारतीय सच्चाई देख सकते हैं         ||           भाजपा ने लोया मामले में अपने सांसदों से कहा, राहुल पर हमला बोलें         ||           सेंसेक्स 12 अंकों की गिरावट पर बंद         ||           शकील बदायूँनी की पुण्यतिथि पर         ||           आज का दिन:         ||           चिदंबरम ने ईंधन की कीमतों को लेकर सरकार पर साधा निशाना         ||           दिल्ली उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश राजिन्द्र सच्चर का निधन         ||           केंद्र की वादाखिलाफी के विरोध में चंद्रबाबू नायडू का एकदिवसीय अनशन         ||           'द वॉक ऑफ मिजवान' के रैंप पर रणबीर, दीपिका ने जलवा बिखेरा         ||           राफेल नडाल मोंटे कार्लो मास्टर्स के क्वार्टर फाइनल में         ||           7 विपक्षी दलों ने प्रधान न्यायाधीश के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव सौंपा         ||           नरोदा पाटिया नरसंहार मामले में कोडनानी बरी         ||           राष्ट्रमंडल सम्मेलन अधर में छोड़कर दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति स्वदेश लौटे         ||           राजधानी दिल्ली में बारिश के आसार         ||           अनिल कपूर ने कहा 'चलती का नाम गाड़ी' का रीमेक बनाने के लिए तैयार         ||           एंटोनियो गुटेरेस ने कहा संयुक्त राष्ट्र कर्मियों पर हमले बढ़े         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> दिवाली की रौशनी

दिवाली की रौशनी


admin ,Vniindia.com | Wednesday October 11, 2017, 05:53:33 | Visits: 196







खास बातें


1 दिवाली की रौशनी

  नयी  दिल्ली 11  -10-2017,सुनील कुमार ,वी एन  आई



 



भजन की फैक्ट्री  3  साल  पहले बंद हो गयी थी ,भजन  उस फैक्ट्री  में मजदूर  था !तीन  साल से उसका  परिवार  बड़ी किल्लतों  से जिंदगी  निकाल  रहा  था!परिवार  में उसकी पत्नी थी ,और एक  छोटा  बेटा था !छोटे मोटे   काम  कर के ,दिहाड़ी मजदूरी  कर के  वो परिवार  का पेट पाल  रहा था !आज दिवाली थी ,पत्नी घर के काम में व्यस्त  थी ,बच्चा पटाखों   के लिए  जिद  कर के रो रो  कर सो गया था   ,भजन अँधेरे  कमरे में उदासी  में बैठा  था ,दिमाग में यही विचार थे की लोग कितने  खुश हैं ,हर तरफ रौशनी है ,पटाखों  की आवाजें  आ  रही  हैं ,कितनी चहल पहल  है ,काश उसकी फैक्ट्री  बंद  न होती और वो भी बेटे  को पटाखे दिलवाता ,मिठाई  लाता ,कमरे  के अँधेरे में  और अपनी जिंदगी के अँधेरे  में उसे बहुत कुछ समानता  नज़र आ रही  थी!तभी हवा  का एक झोंका अपने साथ किसी  पुस्तक का फटा  हुआ  पन्ना साथ  ले कर आया  और पन्ना भजन के पैरों  के पास आ कर गिरा !भजन ने पन्ना  उठाया  उस पर कुछ पंक्तियाँ लिखी  थीं "कोई ऐसी  रात है जिसकी सुबह  न हुई  हो ",पंक्तियाँ  पढ़ते  ही ,भजन     ने कमरे में बल्ब  का स्विच  ऑन  किया   और बेटे को उठाते  हुए बोला "बेटे   उठो ,दिवाली की रौशनी देखो "          



 



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें