Breaking News
सर्वोच्च न्यायालय में 'पद्मावत' पर मध्य प्रदेश और राजस्थान की याचिका पर मंगलवार को सुनवाई         ||           राष्ट्रपति कोविंद और प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्र को बसंत पंचमी की बधाई दी         ||           विश्व आर्थिक मंच में शामिल होने के लिए प्रधानमंत्री मोदी दावोस रवाना         ||           सिद्धांत कपूर ने कहा बहन श्रद्धा से स्पर्धा नहीं         ||           राजधानी दिल्ली में सुबह आंशिक बदली छाई, 10 ट्रेनें रद्द         ||           शेयर बाजारों के शुरुआती कारोबार में तेजी का असर         ||           काबुल हमले की संयुक्त राष्ट्र ने निंदा की         ||           काबुल हमले में मृतकों की संख्या बढ़कर 18 हुई         ||           पाकिस्तानी गोलीबारी में एक नागरिक की मौत         ||           अमेरिकी उपराष्ट्रपति माइक पेंस इजरायल पहुंचे         ||           नए मुख्य निर्वाचन आयुक्त बने ओम प्रकाश रावत         ||           केजरीवाल ने कहा भगवान ने इसी दिन के लिए हमें 67 सीटें दी थी         ||           अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के विरोध में पूरे अमेरिका में महिलाओं की अगुआई में 'गुलाबी टोपी जुलूस         ||           डावोस मे विश्व आर्थिक मंच में महकेंगी भारतीय व्यजंनो की महक और योग की छटा         ||           गीता बाली की पुण्य तिथि पर         ||           केजरीवाल सरकार के 20 विधायक आज अयोग्य करार, राष्ट्रपति ने लगाई मुहर         ||           आज का दिन :         ||           भारत 4-नेशन्स इन्विटेशनल हॉकी टूर्नामेंट के पहले चरण के फाइनल में हारा         ||           राष्ट्रपति कोविंद ने दिल्ली आग हादसे पर दुख जताया         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने पूर्वोत्तर राज्यों को स्थापना दिवस के मौके पर बधाई दी         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> दिवाली की रौशनी

दिवाली की रौशनी


admin ,Vniindia.com | Wednesday October 11, 2017, 05:53:33 | Visits: 94







खास बातें


1 दिवाली की रौशनी

  नयी  दिल्ली 11  -10-2017,सुनील कुमार ,वी एन  आई



 



भजन की फैक्ट्री  3  साल  पहले बंद हो गयी थी ,भजन  उस फैक्ट्री  में मजदूर  था !तीन  साल से उसका  परिवार  बड़ी किल्लतों  से जिंदगी  निकाल  रहा  था!परिवार  में उसकी पत्नी थी ,और एक  छोटा  बेटा था !छोटे मोटे   काम  कर के ,दिहाड़ी मजदूरी  कर के  वो परिवार  का पेट पाल  रहा था !आज दिवाली थी ,पत्नी घर के काम में व्यस्त  थी ,बच्चा पटाखों   के लिए  जिद  कर के रो रो  कर सो गया था   ,भजन अँधेरे  कमरे में उदासी  में बैठा  था ,दिमाग में यही विचार थे की लोग कितने  खुश हैं ,हर तरफ रौशनी है ,पटाखों  की आवाजें  आ  रही  हैं ,कितनी चहल पहल  है ,काश उसकी फैक्ट्री  बंद  न होती और वो भी बेटे  को पटाखे दिलवाता ,मिठाई  लाता ,कमरे  के अँधेरे में  और अपनी जिंदगी के अँधेरे  में उसे बहुत कुछ समानता  नज़र आ रही  थी!तभी हवा  का एक झोंका अपने साथ किसी  पुस्तक का फटा  हुआ  पन्ना साथ  ले कर आया  और पन्ना भजन के पैरों  के पास आ कर गिरा !भजन ने पन्ना  उठाया  उस पर कुछ पंक्तियाँ लिखी  थीं "कोई ऐसी  रात है जिसकी सुबह  न हुई  हो ",पंक्तियाँ  पढ़ते  ही ,भजन     ने कमरे में बल्ब  का स्विच  ऑन  किया   और बेटे को उठाते  हुए बोला "बेटे   उठो ,दिवाली की रौशनी देखो "          



 



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें