Breaking News
आज का दिन :         ||           गोवा के नए मुख्यमंत्री हो सकते हैं प्रमोद सावंत         ||           छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में एक सीआरपीएफ जवान शहीद, पांच घायल         ||           मनोहर पर्रिकर पंचतत्व में हुए विलीन         ||           प्रियंका गाँधी ने कहा गरीब नहीं अमीर रखते हैं चौकीदार         ||           राहुल ने कहा 500-1000 के नोटों की तरह संविधान को भी खत्म करना चाहते हैं मोदी         ||           विदेश मंत्री सुषमा ने मालदीव के गृह मंत्री से मुलाकात की         ||           मायावती ने कांग्रेस को महागठबंधन के लिए 7 सीटें छोड़ने दिया करारा जवाब         ||           गिरिराज सिंह ने कहा सिर्फ नवादा सीट से लड़ूंगा         ||           थिएम ने फेडरर को हराकर पहला एटीपी मास्टर्स खिताब जीता         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने मनोहर पर्रिकर को दी अंतिम विदाई         ||           प्रियंका गांधी प्रयागराज से वाराणसी की तीन दिवसीय गंगा यात्रा पर निकलीं         ||           चीन के प्रति नीति में बदलाव जरूरी         ||           पेट्रोल आज हुआ महंगा, डीजल के दाम घटे         ||           एआईएडीएमके ने लोकसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों में केवल एक महिला को दिया टिकट         ||           पर्रिकर को अंतिम विदाई देने के लिए पणजी बीजेपी दफ्तर में उमड़ी भीड़         ||           कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल में लेफ्ट फ्रंट के साथ गठबंधन खत्म किया         ||           आज का दिन : साइना नेहवाल         ||           गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का निधन         ||           बिहार में एनडीए के बीच आज हुआ सीटों का बंटवारा         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> साहित्यकार अज्ञेय

साहित्यकार अज्ञेय


admin ,Vniindia.com | Wednesday March 07, 2018, 02:00:00 | Visits: 235







खास बातें


1 अज्ञेय

सुनील कुमार ,वी एन  आई ,नयी  दिल्ली 07 -03-2018



 



सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन 'अज्ञेय'  का  जन्म 7 मार्च, 1911 को  कुशीनगर उत्तर  प्रदेश  में  हुआ - मृत्यु: 4 अप्रैल, 1987 नई दिल्ली में हुई ! अज्ञेय को प्रतिभासम्पन्न कवि,  साहित्यकार    कथाकार, निबन्धकार, सम्पादक और सफल अध्यापक के रूप में जाना जाता है।



 



अज्ञेय का कृतित्व बहुमुखी है और वह उनके समृद्ध अनुभव की सहज परिणति है। अज्ञेय की प्रारंभ की रचनाएँ अध्ययन की गहरी छाप अंकित करती हैं या प्रेरक व्यक्तियों से दीक्षा की गरमाई का स्पर्श देती हैं, बाद की रचनाएँ निजी अनुभव की परिपक्वता की खनक देती हैं। और साथ ही भारतीय विश्वदृष्टि से तादात्म्य का बोध कराती हैं।  अज्ञेय ने अभिव्यक्ति के लिए कई विधाओं, कई कलाओं और भाषाओं का प्रयोग किया, जैसे कविता, कहानी, उपन्यास, नाटक, यात्रा वृत्तांत, वैयक्तिक निबंध, वैचारिक निबंध, आत्मचिंतन, अनुवाद, समीक्षा, संपादन। उपन्यास के क्षेत्र में 'शेखर' एक जीवनी हिन्दी उपन्यास का एक कीर्तिस्तंभ बना। नाट्य-विधान के प्रयोग के लिए 'उत्तर प्रियदर्शी' लिखा, तो आंगन के पार द्वार संग्रह में वह अपने को विशाल के साथ एकाकार करने लगते हैं।



 



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें