Breaking News
आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में विराट कोहली शीर्ष पर बरकरार, पृथ्वी और पंत ने भी लगाई छलांग         ||           प्रधानमंत्री मोदी और चीनी राष्ट्रपति जिनपिंग नवंबर में अर्जेंटीना में मिलेंगे         ||           डॉनल्ड ट्रंप ने कहा चीन चाहकर भी एक सीमा के बाद जवाब नहीं दे सकता         ||           एमजे अकबर ने पत्रकार प्रिया रमानी के खिलाफ दर्ज कराया मानहानि का केस         ||           राहुल गांधी ने मध्य प्रदेश में प्रधानमंत्री मोदी पर बोला हमला         ||           अमित शाह ने कहा सपा, बसपा, कांग्रेस के लिए वोटबैंक हैं घुसपैठिए         ||           अफगानिस्तान में तालिबानी हमले में 18 सैनिकों की मौत         ||           देश के शेयर बाज़ारो के शुरूआती कारोबार में गिरावट असर         ||           दो दोस्तों के बीच संभल कर         ||           भारत ने दूसरे टेस्ट में वेस्टइंडीज को 10 विकेट से हराकर सीरीज 2-0 से जीती         ||           तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर अपराधों को लेकर हमला बोला         ||           एम्स से मनोहर पर्रिकर को छुट्टी मिली         ||           आज का दिन :         ||           शिवपाल यादव के मंच पर मुलायम की छोटी बहू अपर्णा पहुंचीं         ||           केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर विदेश दौरे से लौटे         ||           ऋषभ पंत और रहाणे शतक के करीब, दूसरे दिन भारत ने बनाये 308/4 रन         ||           डोनाल्ड ट्रंप ने कहा लापता पत्रकार खाशोगी के बारे में सऊदी सुल्तान से चर्चा करूंगा         ||           छत्तीसगढ़ में चुनाव से पहले कांग्रेस नेता रामदयाल उइके ने बीजेपी का दामन थामा         ||           आज का दिन :         ||           पंजाब विधानसभा से आप विधायक एचएस फुल्का ने दिया इस्तीफा         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> साहित्यकार अज्ञेय

साहित्यकार अज्ञेय


admin ,Vniindia.com | Wednesday March 07, 2018, 02:00:00 | Visits: 187







खास बातें


1 अज्ञेय

सुनील कुमार ,वी एन  आई ,नयी  दिल्ली 07 -03-2018



 



सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन 'अज्ञेय'  का  जन्म 7 मार्च, 1911 को  कुशीनगर उत्तर  प्रदेश  में  हुआ - मृत्यु: 4 अप्रैल, 1987 नई दिल्ली में हुई ! अज्ञेय को प्रतिभासम्पन्न कवि,  साहित्यकार    कथाकार, निबन्धकार, सम्पादक और सफल अध्यापक के रूप में जाना जाता है।



 



अज्ञेय का कृतित्व बहुमुखी है और वह उनके समृद्ध अनुभव की सहज परिणति है। अज्ञेय की प्रारंभ की रचनाएँ अध्ययन की गहरी छाप अंकित करती हैं या प्रेरक व्यक्तियों से दीक्षा की गरमाई का स्पर्श देती हैं, बाद की रचनाएँ निजी अनुभव की परिपक्वता की खनक देती हैं। और साथ ही भारतीय विश्वदृष्टि से तादात्म्य का बोध कराती हैं।  अज्ञेय ने अभिव्यक्ति के लिए कई विधाओं, कई कलाओं और भाषाओं का प्रयोग किया, जैसे कविता, कहानी, उपन्यास, नाटक, यात्रा वृत्तांत, वैयक्तिक निबंध, वैचारिक निबंध, आत्मचिंतन, अनुवाद, समीक्षा, संपादन। उपन्यास के क्षेत्र में 'शेखर' एक जीवनी हिन्दी उपन्यास का एक कीर्तिस्तंभ बना। नाट्य-विधान के प्रयोग के लिए 'उत्तर प्रियदर्शी' लिखा, तो आंगन के पार द्वार संग्रह में वह अपने को विशाल के साथ एकाकार करने लगते हैं।



 



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें