Breaking News
सेंसेक्स 448 अंकों की गिरावट पर बंद         ||           प्रधानमंत्री मोदी दो दिनी दौरे पर बनारस पहुंचे         ||           अमिताभ ने कहा 'न्यूटन' आंख खोलने वाली फिल्म है         ||           उप्र के शाहजहांपुर में किशोरी के साथ सामूहिक दुष्कर्म         ||           श्रीकांत जापान ओपन के क्वार्टर फाइनल में हारे         ||           राष्ट्रपति कोविंद महाराष्ट्र के एकदिवसीय दौरे पर         ||           सर्वोच्च न्यायालय ने कहा गौरक्षक हिंसा मामले में पीड़ितों को मुआवजा दें राज्य         ||           प्रणव और सिक्की जापान ओपन के सेमीफाइनल में, प्रणॉय हारे         ||           राजकुमार राव का लोगों से मतदान करने का आग्रह         ||           बिहार में दो युवकों की गोली मारकर हत्या         ||           अंडर-17 फुटबाल विश्व कप के लिए कोलंबिया ने टीम चुनी         ||           न्यूजीलैंड की टीम फीफा अंडर-17 विश्व कप के लिए घोषित         ||           पारिवारिक विरासत ने जमीन से जोड़े रखा : जूनियर एनटीआर         ||           अभिनेता ताहा शाह ने 100 बार डायलॉग सुने         ||           टाइप-2 डायबिटीज से पीड़ित बुजुर्गो को फ्रैक्चर का जोखिम ज्यादा         ||           जम्मू एवं कश्मीर में गोलाबारी, 4 लोग घायल         ||           किम जोंग उन ने कहा ट्रंप मानसिक रूप से विक्षिप्त         ||           डोनाल्ड ट्रंप और थेरेसा के बीच ईरान, उत्तर कोरिया मुद्दे पर होगी चर्चा         ||           मेक्सिको में भूकंप से मरने वालों की संख्या 273 हुई         ||           राजधानी दिल्ली में आज सुबह बूंदाबांदी         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> जंग

जंग


admin ,Vniindia.com | Thursday August 10, 2017, 10:22:00 | Visits: 53







नयी  दिल्ली, 10 अगस्त, (सुनील कुमार /वीएनआई)



जंग  में  कुछ  गोलियों  पर ,कुछ  गोलों



पर  लिखा  होता  है कुछ  जांबाज़ों  का  नाम



पर जब तलक ,ये जांबाज़  अपने  मकसद को



पूरा  नहीं कर  लेते ,तब तलक वो करते  हैं



हर गोली,हर गोले  को  नाकाम



कर  के, पूरा अपना  मकसद  वो लिखवा  लेते  हैं



शहीदों  में  अपना  नाम   



 



होली दिवाली  तीज त्यौहार



ये सारा देश  मनाता  है वहां  सरहद  पर



फौजी  खड़ा  है  बन के अपना पहरेदार



फ़र्ज़  मान  कर  करता  है  वो  ये काम



न की  उसे  चाहिए  कोई  शोहरत  कोई   नाम



अपने  असली नायक  हैं वो



बामुश्किल ही  जानते  होंगे हम  उनका नाम   



 



कब तलक शहीदों  की मूर्तियों



पर  माला चढ़ा  फक्र  करते रहेंगे  हम



ये उन्ही की बदौलत  है  की हमारे  नसीब में



आई  ये खुशनुमा  सुबह  खुशनुमा शाम



बहुत  हो  गए सड़कों  और चौकों  के शहीदों  पर  नाम



अपना फ़र्ज़ मान  कर  हमें  रखना  होगा



शहीदों  के परिवारों  का ध्यान     



 



Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें