Breaking News
Anupma's Dining Table : Orange Almond Pudding         ||           Students find 'Study of NON-VIOLENCE & JAINISM', an enlightening experience         ||           भारत की इजरायल-फिलिस्तीन कूटनीति         ||           चीन में रिलीज होगी 'बजरंगी भाईजान'         ||           जापान में ज्वालामुखी भड़कने के बाद हिमस्खलन से 15 घायल         ||           राजधानी दिल्ली में बदली छाई, बारिश की संभावना         ||           कनाडा के प्रधानमंत्री त्रुदो अगले माह भारत में-रिश्ते और मजबूत होंगे         ||           उप्र में तेज धूप और तापमान में इजाफा         ||           मप्र के राज्यपाल के रूप में आनंदी बेन ने शपथ ली         ||           ईरान परमाणु समझौते पर चर्चा के लिए अमेरिकी राजनयिक दल यूरोप जाएगा         ||           शेयर बाजारों में रिकॉर्ड तेजी का असर         ||           पूर्व फुटबॉल स्टार ने लाइबेरिया में राष्ट्रपति पद की शपथ ली         ||           टिलरसन ने कहा अमेरिका और ब्रिटेन को विशेष द्विपक्षीय संबंधों को भूलना नहीं चाहिए         ||           एर्दोगन ने कहा सीरिया के अफरीन में सैन्य अभियान से पीछे नहीं हटेंगे         ||           अमेरिकी शेयर बाजार रिकॉर्ड ऊंचाई पर बंद         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने डब्ल्यूईएफ में शीर्ष वैश्विक कंपनियों के सीईओ से मुलाकात की         ||           कांग्रेस कार्यालय में राहुल गांधी आम लोगों से मिलेंगे         ||           प्रकाश अंबेडकर ने कहा भीमा-कोरेगांव हिंसा के आरोपी को बचा रहा है पीएमओ         ||           विजय आनंद के जन्मदिन 22 जनवरी पर         ||           Canada PM Trudeau to travel to India next month         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> इस शहर में नहीं 'मर' सकता कोई,प्रशासन ने लगा रखी है 'मरने' पर पाबंदी,'मरने' के लिये जाना पड़ता है दूसरी जगह

इस शहर में नहीं 'मर' सकता कोई,प्रशासन ने लगा रखी है 'मरने' पर पाबंदी,'मरने' के लिये जाना पड़ता है दूसरी जगह


Vniindia.com | Saturday May 06, 2017, 05:40:35 | Visits: 691







लोंगयेरब्येन, नॉर्वे ,६ मई (वी एन आई) सुनने पर भले ही इस बात पर भरोसा नही हो लेकिन यह बात सच है दुनिया में ऐसी भी जगहें हैं जहां 'मरने' पर ही पाबंदी है। कुछ भी हो जाए पर आप यहां मर नहीं सकते और यह नियम इतना सख्त और असरदार है कि एक शहर में तो पिछले लगभग 70 सालों से कोई नहीं मरा है।

नॉर्वे के 2000 आबादी वाले एक कस्बे लोंगयेरब्येन में सरकार ने मौत पर पाबंदी लगा रखी है और वो भी आज से नहीं बल्कि 70 सालों से। और विश्वास कीजिये, यहां 70 सालों से कोई 'मरा' भी नहीं है।

नार्वे और उत्तरी ध्रुवों के बीच यह आइलैंड स्थित है और यहां हांड कंपा देने वाली ठण्ड पड़ती है। इतनी ठण्ड में अगर कोई इंसान मरता है तो उसका मृत शरीर न तो सड़ता है और न ही गलता है। डेड बॉडी सालों तक वैसे ही पड़ी रहती है और नष्ट नहीं होती।

बताया जाता है कि 1917 में यहां महामारी के कारण एक ऐसे व्यक्ति की मौत हुई जिसके अंदर इन्फ्लुएंजा के जीवाणु थे। शव के साथ ये जीवाणु भी वैसे ही पड़े रहे और आगे इनसे महामारी फैलने का खतरा था।यही वजह रही कि इसके कुछ वर्षों बाद सरकार ने यहां मरने पर ही पाबंदी लगा दी।

अगर कोई इंसान यहां बहुत बीमार या मरने की हालत में होता है या फिर किसी प्रकार की इमरजेंसी हो तब उस आदमी को हेलीकाप्टर की मदद से शहर के दूसरे इलाकों में ले जाया जाता है और ठीक होने के बाद ही उसे वापस लाया जाता है। मरने की स्थिति में वहीँ उसका अंतिम संस्कार कर दिया जाता है।

लोंगयेरब्येन ही दुनिया मे अकेला ऐसा इलाका नही है जहा इस तरह की पाबंदी है जापान के इत्सुकुशीमा, इटली के फलसियानो डेल मस्सिको और फ़्रांस के सरपोरेन्स कुछ ऐसे शहर हैं जहां अलग अलग कारणों से मरने पर पाबंदी लगी हुई है।

Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें