Breaking News
लीबिया में अगवा डॉक्टर की रिहाई की डब्ल्यूएचओ ने अपील की         ||           दलवीर भंडारी दूसरी बार आईसीजे न्यायाधीश बने         ||           रहमान ने कहा मैं और मजीदी दोनों विशिष्ट वर्ग के         ||           बिहार भाजपा अध्यक्ष ने अपने विवादित बयान पर दी सफाई         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने आईसीजे में भंडारी के दोबारा चुने जाने को सराहा         ||           श्रीनगर में सबसे ठंडी रात, लेह में तापमान शून्य से 10.2 डिग्री नीचे         ||           लुधियाना कारखाना हादसे में मरने वालो की संख्या बढ़कर 10         ||           कमल हासन ने कहा दीपिका की स्वतंत्रता का सम्मान किया जाए         ||           तेल की कीमतों में ओपेक की बैठक से पहले गिरावट         ||           राजधानी दिल्ली में सुबह रहा हल्का कोहरा         ||           जिम्बाब्वे के राष्ट्रपति मुगाबे के खिलाफ महाभियोग की प्रक्रिया शुरू होगी         ||           शेयर बाजारों के शुरुआती कारोबार में तेजी का असर         ||           जेटली ने कहा संसद का शीतकालीन सत्र बुलाने में पहले भी देर हुई थी         ||           वीवो वी7 18990 की कीमत में लांच         ||           विराट कोहली ने लगाया अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट शतकों का अर्धशतक         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने दासमुंशी के निधन पर शोक जताया         ||           फरहान अख्तर ने कहा संगीत की भाषा सार्वभौमिक         ||           सेंसेक्स 17 अंकों की तेजी पर बंद         ||           ममता ने कहा 'पद्मावती' विवाद दुर्भाग्यपूर्ण         ||           आखिरी दिन भारत ने दिखाया दम, पहला टेस्ट ड्रा         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> नोटबंदी का असर-अब खुश नही है जमाना पहली तारीख से बल्कि आशंकित है,हालांकि बेंक दे रहे है आश्वासन

नोटबंदी का असर-अब खुश नही है जमाना पहली तारीख से बल्कि आशंकित है,हालांकि बेंक दे रहे है आश्वासन


Vniindia.com | Wednesday November 30, 2016, 09:45:22 | Visits: 92







नई दिल्‍ली,30 नवंबर(वी एन आई)कभी एक मशहूर हिंदी फिल्म का लोकप्रिय गीत -खुश है जमाना आज पहली तारीख है- के मायने अब बदल गये है. कभी जो पहली तारीख वेतन भोगियो के लिये वेतन पाने और खुशी मनाने का दिन माना जाता था, वही अब नोटबंदी के बाद से बेंको की लंबी कतार को झेल रहा परेशान आम आदमी एक तारीख से बेंको के सीन और वहा केश की किल्लत को ले कर खासा आशंकित नजर आ रहा है.हालांकि परेशानी झेल रहे लोगो की तकलीफे एक तारीख से वेतन के भुगतान के दि्नो से और ज्यादा नही बढे, इसके लिये बेंको ने आश्वासन दिया है कि वे इसके लिये समुचित अतिरिक्त प्रबंध कर रहे है और केश की कमी नही रहेगी.
सूत्रो के अनुसार आरबीआई ने सरकार को आश्‍वस्‍त किया है कि उसने लोगों के अधिक धन निकासी के लिए पर्याप्‍त इंतजाम किए हैं. सूत्रों के मुताबिक रिजर्व बैंक ने वित्‍त मंत्रालय से कहा है कि सात दिसंबर तक वेतन के दिनों के मद्देनजर नकद निकासी की भारी मांग को देखते हुए सभी सरकारी प्रेस 500 रुपये के नए नोट छाप रहे हैं.प्राप्त जानकारी के अनुसार बेंको मे सरकारी कर्म्चारियो के तनख्वाहे पहुंचनी शुरू हो गई हे लेकिन अनेक लोगो की शिकायत है कि सुबह बेंक खुलने के थोड़े देर बाद ही नगदी खतम हो जाती है

आठ नवंबर को पीएम मोदी की नोटबंदी की घोषणा के बाद वेतन के दिनों के लिहाज से यह पहला मौका है. सूत्रो के अनुसार बैंकों ने भारी निकासी दबाव को देखते हुए आरबीआई से अतिरक्त नकदी मांगी है, इसके तहत आरबीआई ने 10 से 25 नवंबर तक 2 लाख करोड़ रुपये की नकदी भेजी है . अनेक बेंको की शाखाओं में संभावित भीड़ से निपटने के लिए अतिरिक्त काउंटर खोलने की तैयारी की है. सूत्रो के अनुसार बैंकों के लिए यह असली चुनौती होगी, जब वेतन और पेंशन की निकासी के लिए उनकी शाखाओं पर भीड़ उमड़ेगी। केंद्र सरकार के ही 50 लाख वेतनभोगी कर्मचारी हैं और 58 लाख पेंशनभोगी हैं। कारोबारी भी अपने कर्मचारियों के वेतन के लिए रकम निकासी उसी दिन करेंगे। माना जा रहा है कि दिसंबर के शुरुआती दस दिन बैंकों के लिए खासे भारी पड़ेंगे क्योंकि राशन, स्कूल फीस से लेकर तमाम तरह के बिल और दूसरे खर्च उसी दौरान किए जाते हैं, जिसके लिए हर शख्स को रकम निकासी की जरूरत होगी।

सूत्रो के अनुसार रिजर्व बैंक भी स्थिति को काबू में रखने के लिए अपनी ओर से पूरी कोशिश कर रहा है। बैंकरों का कहना है कि केंद्रीय बैंक ने नोटों की आपूर्ति तेज कर दी है। 10 नवंबर से 25 नवंबर के बीच रिजर्व बैंक ने 2 लाख करोड़ रुपये के नए नोट बैंकों पास भेजे हैं। लेकिन नोटों की किल्लत से घबराए लोगों ने आम तौर पर निकासी कर रकम अपने घरों में रख ली है, जिसकी वजह से कमी और भी महसूस हो रही है। ऐसे में दिसंबर की शुरुआत में एटीएम पर भी दिक्कत हो सकती है क्योंकि ज्यादा वेतन वाले एक ही बार में वेतन निकालने के बजाय एटीएम का बार-बार प्रयोग करते हैं।

बड़े नोट बंद होने की घोषणा को 20 दिन बीतते-बीतते बैंकों के एटीएम के आगे कतारें कुछ छोटी दिखने लगी हैं, लेकिन एटीएम के आगे की भीड़ अब बैंकों के भीतर नजर आने लगी है। पुराने नोट जमा कराने वालों से ज्यादा भीड़ नए नोट निकालने वालों की हैं, जिनमें कारोबारी, नौकरीपेशा, पेंशनर और करीब-करीब हर तबके के लोग शामिल हैं। रिजर्व बैंक ने भीड़ कम करने के लिए 70 फीसदी से ज्यादा एटीएम को नए नोटों की निकासी के लिए दुरुस्त बना दिया है, लेकिन कई एटीएम अभी नकदी का इंतजार ही कर रहे हैं। इसके अलावा 2,500 रुपये रोजाना की बंदिश और महीने का आखिरी हफ्ता लोगों को एटीएम से मुंह मोड़कर बैंकों के भीतर जाने के लिए मजबूर कर रहा है।वी एन आई



Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें