Breaking News
शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा राफेल पर चीजें छुपाओगे तो कहा ही जाएगा, चौकीदार चोर है         ||           ममता ने कहा मोदी सरकार की एक्सपायरी डेट आ गई         ||           तेजस्वी यादव ने कहा आप भले ही चौकीदार हैं लेकिन देश की जनता थानेदार है         ||           हार्दिक पटेल ने कहा सुभाष चंद्र बोस लड़े थे गोरों से, हम लड़ रहे चोरों से         ||           पटियाला हाउस कोर्ट से आईआरसीटीसी घोटाला मामले में लालू को मिली राहत         ||           डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग उन के बीच फरवरी में होगी मुलाकात         ||           वित्तमंत्री जेटली ने 'द हिंदू' की रिपोर्ट को झूठ से प्रेरित कहानी बताया         ||           दिल्ली-एनसीआर में बारिश होने की संभावना, 22 जनवरी से बदलेगा मौसम         ||           पाकिस्तान के नए चीफ जस्टिस बने आसिफ खोसा         ||           प्रकाश राज ने कहा एसी कमरों में बैठकर खेली जा रही है राम मंदिर की राजनीति         ||           भारत ने ऑस्ट्रेलिया को तीसरे एकदिवसीय में 7 विकेट से हराकर सीरीज 2-1 से जीती         ||           आज का दिन : कुंदन लाल सहगल         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने आज 9वें वाइब्रेंट गुजरात ग्लोबल समिट का उद्धाटन किया         ||           उमा भारती ने कहा मायावती पर फिर होगा लखनऊ गेस्ट हाउस जैसा हमला         ||           डीएमके सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण के खिलाफ कोर्ट पहुंची         ||           राजधानी दिल्ली में ठंड का कहर जारी, 7 लोगों की मौत         ||           कन्नौज से चुनाव लड़ सकती हैं डिंपल यादव         ||           मायावती ने कहा मैं कांशीराम की शिष्या हूँ, उन्हीं की स्टाइल में दूंगी जवाब         ||           आज का दिन : सुचित्रा सेन         ||           श्रीनगर में पुलिस टीम पर ग्रेनेड अटैक में तीन पुलिसकर्मी घायल         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> प्रसिद्ध रामजस कॉलेज में पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन

प्रसिद्ध रामजस कॉलेज में पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन


Vniindia.com | Thursday February 23, 2017, 04:27:00 | Visits: 371







प्रसिद्ध रामजस कॉलेज में पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन

नई दिल्ली, 23 फरवरी (वीएनआई)। दिल्ली के प्रसिद्ध रामजस कॉलेज में छात्रों के दो वर्गों के बीच हुई झड़प के बाद गुरुवार को दिल्ली पुलिस हेड क्वार्टर के बाहर बड़ी संख्या में छात्र एकत्रित हुए और प्रदर्शन किया।

विरोध-प्रदर्शन का आयोजन ऑल इंडिया स्टूडेंट एसोसिएशन (आइसा) ने किया और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के छात्रों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की, जिन पर उन्होंने बुधवार को छात्रों को पीटने का आरोप लगाया है।

दिल्ली विश्वविद्यालय तथा जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के कुछ शिक्षक भी प्रदर्शन में शामिल हुए और बुधवार को आक्रामक हुए एबीवीपी के छात्रों के खिलाफ पुलिस द्वारा कोई कार्रवाई न करने की निंदा की।

प्रदर्शनकारियों ने एबीवीपी तथा दिल्ली पुलिस के खिलाफ नारे लगाए।

दिल्ली यूनिवर्सिटी स्टूडेंट एसोसिएशन (डूटा) की अध्यक्ष नंदिता नारायण ने कहा, "हम विश्वविद्यालयों के मृतप्राय लोगों के समूह हैं और कोई भी विरोध-प्रदर्शन का नेतृत्व नहीं कर रहा है।"

उन्होंने कहा, "हम सबको तकलीफ है। मैं छात्रों व शिक्षकों के खिलाफ हिंसा तथा एबीवीपी के गैरकानूनी व्यवहार की निंदा करती हूं।"

उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय परिसर स्थित रामजस कॉलेज में एबीवीपी कार्यकर्ताओं द्वारा की गई हिंसा को रोकने में नाकाम होने को लेकर दिल्ली पुलिस की आलोचना की।

उन्होंने कहा कि उनके कॉलेज सेंट स्टीफेंस के कम से कम 50 छात्र घायल हुए हैं और आधी रात को हौजखास पुलिस थाने से तनाव की हालत में वापस लौटे। बुधवार को उन्हें हिरासत में लिया गया था।

उन्होंने कहा, "यह बेहद दुखद है, क्योंकि सेंट स्टीफेंस कॉलेज का राजनीति से दूर-दूर तक नाता नहीं है। पुलिस ने छात्रों की पिटाई भी की।"

वामदल समर्थित आइसा तथा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से संबद्ध एबीवीपी के बीच हिंसा के बाद पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ दंगा भड़काने तथा मारपीट करने का एक मामला दर्ज किया था, जिसके बाद गुरुवार को छात्रों का यह प्रदर्शन सामने आया है।

राष्ट्रद्रोह के आरोप में पिछले साल जेल की हवा खा चुके जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के छात्र उमर खालिद को रामजस कॉलेज में 'विरोध की संस्कृति' नामक साहित्यिक सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए आमंत्रित करने को लेकर झड़प हुई।

मंगलवार तथा बुधवार को होने वाला दो दिवसीय कार्यक्रम एबीवीपी के विरोध के कारण रद्द करना पड़ा।










Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें