Breaking News
मिजोरम के नए मुख्यमंत्री के रूप में जोरामथांगा ने ली शपथ         ||           कनाडा में "खालिस्तानी अलगाववाद" को झटका         ||           अमेरिका ने कहा भारत ही हमारा सच्चा दोस्त         ||           जम्‍मू कश्‍मीर के पुलवामा में तीन आतंकी ढेर         ||           बैडमिंटन स्टार साइना नेहवाल और पी. कश्यप एक-दूजे के हुए         ||           अरुण जेटली ने कहा झूठ बोलने वालों की हार हुई         ||           सेंसेक्स 33 अंक की तेजी पर बंद         ||           शाहरुख खान ने कहा श्रीदेवी बहुत प्यार करती थीं मुझसे         ||           अशोक गहलोत राजस्थान के मुख्यमंत्री बने, सचिन पायलट को उप मुख्यमंत्री पद         ||           हैरिस और हेड के लगाये अर्धशतक, पहले दिन ऑस्ट्रेलिया ने बनाए 277/6 रन         ||           अमित शाह ने कहा राफेल डील पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला कांग्रेस के मुंह पर तमाचा         ||           राजस्थान के अगले मुख्यमंत्री होंगे अशोक गहलोत, औपचारिक ऐलान बाकी         ||           सर्वोच्च न्यायलय ने कहा राफेल डील पर कोई संदेह नहीं         ||           केरल में भाजपा की हड़ताल, बंद का आह्वान         ||           कमलनाथ 17 दिसंबर को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री की शपथ लेंगे         ||           क्रिसमस बाजार में हमला करने वाले आईएस आतंकी को फ्रांस पुलिस ने मार गिराया         ||           मेघालय में अवैध कोयला खदान में 13 मजदूर फंसे         ||           देश के शेयर बाज़ारो के शुरूआती कारोबार में तेजी का असर         ||           शिवराज सिंह चौहान ने कहा केंद्र में नहीं जाऊंगा         ||           लालकृष्ण आडवाणी दिल्ली विधानसभा के रजत जयंती समारोह में हिस्सा नहीं लेंगे         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> चीन के प्रमुख अखबार की चेतावनी- भारत के प्रति घमंडी रवैया चीन के लिए घातक

चीन के प्रमुख अखबार की चेतावनी- भारत के प्रति घमंडी रवैया चीन के लिए घातक


Vniindia.com | Saturday March 04, 2017, 08:08:30 | Visits: 252







बीजिंग,4 मार्च ( वी एन आई) चीन के एक प्रमुख अखबार ने लिखा है कि ने अगर चीन ने भारत के प्रति घमंडी रवैया अख्तियार किया या विनिर्माण क्षेत्र में उसकी बढ़ती प्रतिस्पर्धा को नजरअंदाज किया, तो यह उसके लिए घातक साबित होगा. ग्लोबल टाइम्स के एक संपादकीय के मुताबिक, भारत के विनिर्माण क्षेत्र के विकास का मतलब है, चीन के लिए कड़ी प्रतिस्पर्धा और अधिक दबाव. लेख में कहा गया है कि नोटबंदी के कारण भारतीय अर्थव्यवस्था के सुस्त रहने के बावजूद विनिर्माण क्षेत्र में 8.3 फीसदी की बढ़ोतरी एक बड़ी उपलब्धि है. अखबार के मुताबिक, 'अक्टूबर से दिसंबर 2016 के दौरान भारत की विकास दर सात फीसदी रही है, जो अनुमान से अधिक है और यह आंकड़ा सही है या नहीं, इस पर काफी बहस भी हुई है. इस बीच देश की अर्थव्यवस्था के अन्य महत्वपूर्ण बिंदुओं पर कम ध्यान दिया गया. जिस चीज को नजरअंदाज किया गया, वह है भारत के विनिर्माण क्षेत्र की बढ़ती प्रतिस्पर्धा.'

संपादकीय में कहा गया, 'जनवरी महीने में भारत द्वारा चीन को निर्यात में पिछले साल की समान अवधि की तुलना में 42 फीसदी की बढ़ोतरी देखी गई, जिसकी चीन के अधिकांश विशेषज्ञों ने अनदेखी की. लेकिन अगर चीन ने भारत की बढ़ती प्रतिस्पर्धा पर अभिमानी रवैया अपनाया तो यह बेहद खतरनाक होगा.'

संपादकीय के मुताबिक, 'प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के कदम ने भारतीय अर्थव्यवस्था की रफ्तार पर ब्रेक लगाया है, लेकिन तीसरी तिमाही में देश के विनिर्माण क्षेत्र की रफ्तार फिर भी 8.3 फीसदी है. यह भारत के लिए बड़ी उपलब्धि है, क्योंकि कुछ विशेषज्ञों ने कहा था कि नोटबंदी से विकास के आंकड़ों पर बेहद बुरा प्रभाव पड़ सकता है.'

अखबार ने कहा, 'भारत जैसे बड़े देश में विनिर्माण क्षेत्र के विकास का अर्थ है चीन पर ज्यादा दबाव. भारत के विनिर्माण क्षेत्र से मिल रही प्रतिस्पर्धा एक रणनीति महत्ता का मुद्दा है और इसपर अधिक ध्यान दिए जाने की जरूरत है.' लेख में यह भी कहा गया है कि यह कहना अभी जल्दबाजी होगी कि भारत, विनिर्माण क्षेत्र में चीन की जगह ले सकता है. संपादकीय के मुताबिक, 'स्क्रू से लेकर वाणिज्यिक विमानों के निर्माण के लिए कम समय में औद्योगिकी श्रृंखला का निर्माण करना आसान नहीं है. भारत निर्मित वस्तुओं से बढ़ती प्रतिस्पर्धा पर पैनी नजर रखी जानी चाहिए.'

Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें