Breaking News
जीतनराम मांझी ने महागठबंधन में नीतीश की एंट्री पर कहा कुर्सी छोड़े         ||           भारत और सेशल्स की बीच नौसेना अड्डा बनाने को लेकर सहमति बनी         ||           संसद का मॉनसून सत्र 18 जुलाई से शुरू होगा         ||           योगी आदित्यनाथ ने कहा देश में आपातकाल थोपने वाले लोग अब लोकतंत्र की बातें कर रहे हैं         ||           राजस्थान में बीजेपी के बागी नेता घनश्याम तिवारी ने पार्टी छोड़ी         ||           सेंसेक्स 219 अंकों की गिरावट पर बंद         ||           दीपिका ने तीरंदाजी वर्ल्ड कप में स्वर्ण पदक जीता         ||           संगीतकार मदन मोहन के जन्मदिन (25 जून) पर         ||           आज का दिन         ||           अरुण जेटली ने आपातकाल की बरसी पर इंदिरा गाँधी तुलना हिटलर से की         ||           ममता के चीन दौरे के बाद अब अमेरिका दौरे पर भी संशय         ||           पत्रकार संगठनों द्वारा जम्मू-कश्मीर के भाजपा के विधायक द्वारा पत्रकारो को धमकाने की निंदा         ||           सेशेल्‍स के राष्‍ट्रपति का भारत में स्‍वागत         ||           दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली में पेड़ काटे जाने पर लगाई रोक         ||           पेट्रोल की कीमतों में लगातार तीसरे दिन गिरावट         ||           भारत-अमेरिका के बीच सैन्य सहयोग मजबूत होंगे         ||           प्रियंका चोपड़ा जल्द दिखेंगी मां के रोल में         ||           योगी आदित्यनाथ ने जामिया और एएमयू में दलितों को आरक्षण की मांग उठाई         ||           दिल्ली में पेड़ काटने को लेकर हाइकोर्ट में आज सुनवाई         ||           एर्दोगन दूसरी बार तुर्की के राष्ट्रपति बने         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> केजरीवाल सरकार ने बिजली कटौती को लेकर अंबानी को लिखा खत

केजरीवाल सरकार ने बिजली कटौती को लेकर अंबानी को लिखा खत


Vniindia.com | Wednesday June 15, 2016, 12:20:34 | Visits: 283







नई दिल्ली 15 जून (वीएनआई) दिल्ली बिजली आपूर्ति की समस्या को लेकर केजरीवाल सरकार ने रिलायंस एडीए ग्रुप के चेयरमैन अनिल अंबानी को कड़ी चेतावनी देते हुए खत लिखा है
बिजली वितरण प्रणाली में खामियां दूर करने में बीएसईएस पावर और बीएसईएस राजधानी कंपनियों की नाकामी का हवाला देकर कंपनियों के चयेरमेन अनिल अंबानी को दिल्ली सरकार के ऊर्जा मंत्री सत्येंद्र जैन ने चिट्ठी लिखकर अगले हफ़्ते मीटिंग के लिए बुलाया है.
आम आदमी पार्टी के ट्विटर पर पोस्ट की गई इस चिठ्ठी में दिल्ली में बिजली आपूर्ति की बिगड़ती स्थिति और सरकार की पिछली चेतावनियों का ज़िक्र भी किया गया है.
ऊर्जा मंत्री ने लिखा है,कि कंपनियों के अधिकारियों को लगातार चेतावनी दी गई लेकिन उन्होंने या तो इसे नज़रअंदाज़ किया या वो इन गड़बड़ियों को दुरुस्त करने के काबिल ही नहीं हैं."हो सकता है कि पूर्व की सरकारों के साथ आपके अच्छे संबंध रहे हों लेकिन वर्तमान सरकार जनता के हितों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है."
पत्र में यह भी कहा गया है कि बीएसईएस बिजली आपूर्ति को लेकर दिल्ली वालों की अपेक्षाओं पर खरी नहीं उतर पा रही है। साथ ही कंपनी की कार्यप्रणाली में भ्रष्टाचार और वित्तीय अनियमितताएं भी पाए जाने की बात कही गई है। जैन ने कहा कि आपकी कंपनी को 14 साल पहले दिल्ली की बिजली वितरण प्रणाली को विश्वस्तरीय बनाते हुए कम कीमत पर बिजली आपूर्ति सुनिश्चित कर दिल्ली को दुनिया के अन्य देशों की राजधानियों से बेहतर बनाने की अपेक्षा से जिम्मेदारी दी गई थी। लेकिन बीएसईएस इसमें पूरी तरह से नाकाम रही है।
जैन ने अंबानी से स्पष्ट शब्दो मे कहा कि मौजूदा परिस्थितियों से स्पष्ट है कि कंपनी के मैनेजर और इंजीनियर स्थिति को काबू में करने के लिए सक्षम नहीं है। ऐसे में एक निर्वाचित सरकार मूकदर्शक बन कर नहीं बैठ सकती है। इसके मद्देनजर जैन ने अंबानी को परिस्थितियों दुरुस्त करन की ठोस कार्ययोजना के साथ अगले एक सप्ताह में मिलने के लिए कहा है। उन्होंने चेतावनी दी है, "दिल्ली की वर्तमान सरकार कड़ी कार्रवाई करने में हिचकेगी नहीं."
गौरतलब है कि सस्ती बिजली की दरों को लेकर 'आप' के नेता अरविंद केजरीवाल सत्ता में आए थे. उन्होंने तत्कालीन मुख्यमंत्री शीला दीक्षित की सरकार के साथ बिजली वितरण कंपनियों की साठगांठ का आरोप भी लगाया था.जब वो मुख्यमंत्री बने, तो बिजली के एक हद तक इस्तेमाल पर, उन्होंने दरें लगभग आधी कर दीं. लेकिन तबसे सब्सिडी बिजली कंपनियों के खाते में जा रही है.
मालूम हो कि कि बिजली वितरण कंपनी बीएसईएस, रिलायंस एडीए ग्रुप के अंतर्गत आती है.

Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें