Breaking News
भारतीय हॉकी टीम ने न्यूजीलैंड को हराकर तीन मैचों की टेस्ट सीरीज पर किया कब्जा         ||           अमेरिका में संदिग्ध ने तीन घंटे लोगों को बनाया बंधक, फिर सरेंडर         ||           नीतीश सरकार ने एससी-एसटी को प्रमोशन में आरक्षण देने का बड़ा फैसला लिया         ||           उत्तरप्रदेश और ओडिशा में आज भारी बारिश की आशंका, उत्तराखंड में रेड अलर्ट जारी         ||           भारतीय ऐथलीट मोहम्मद अनस ने नया रेकॉर्ड बनाया         ||           सेना और आतंकियों के बीच जम्मू कश्मीर के कुलगाम में मुठभेड़ में तीन आतंकी ढेर         ||           महिला हॉकी विश्वकप के पहले मैच में भारत और इंग्‍लैंड के बीच मुकाबला 1-1 से ड्रॉ         ||           आज का दिन : राष्ट्रीय ध्वज         ||           राहुल गांधी ने गले मिलने के अगले दिन फिर प्रधानमंत्री मोदी पर बोला हमला         ||           तीरंदाजी वर्ल्ड कप में भारतीय महिला टीम स्वर्ण पदक से चूकी         ||           अखिलेश यादव ने मोदी से गले मिलने पर राहुल को दी नसीहत         ||           ममता बनर्जी ने कहा 15 अगस्त से शुरू होगा 'बीजेपी हटाओ, देश बचाओ' अभियान         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने विपक्ष पर हमला बोलते हुए कहा जितना ज्यादा 'दल-दल' उतना कमल खिलेगा         ||           योगी आदित्यनाथ ने कहा आप पप्पू हैं और हमेशा पप्पू ही रहेंगे         ||           सेना और आतंकियों के बीच जम्‍मू कश्‍मीर के कुपवाड़ा में मुठभेड़ जारी         ||           वाइट हाउस ने कहा रूस की यूक्रेन में जनमत संग्रह की मांग अवैध         ||           ममता बनर्जी 2019 के लिए आज करेंगी रणनीति का ऐलान         ||           राजस्थान में गो तस्करी के शक में मुस्लिम युवक की पीट-पीटकर हत्या         ||           अमित शाह ने कहा विश्वास प्रस्ताव पर विपक्ष की हार 2019 के चुनाव की झलक         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने विश्वास मत जीतने के बाद कहा हममें 125 करोड़ लोगों को भरोसा         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> ब्रह्मकुन्ड :मकर संक्रांति के पर्व पर जहा श्रद्धालु प्राकृतिक ऊष्मा से गर्म सरोवर में करते है स्नान

ब्रह्मकुन्ड :मकर संक्रांति के पर्व पर जहा श्रद्धालु प्राकृतिक ऊष्मा से गर्म सरोवर में करते है स्नान


Vniindia.com | Thursday January 14, 2016, 04:25:21 | Visits: 992







पटना 14 जनवरी अनुपमा जैन(वीएनआई) मकर संक्रांति के पर्व पर जहा श्रद्धालु जहा देश भर में पवित्र नदियों और सरोवरों में खून जमाने वाले ठंडे पानी में डुबकी लगाकरसूर्य देवता को अर्घ्य दे कर नमन करते है वही देश में एक ऐसा पवित्र सरोवर भी है जहा श्रद्धालु इस पर्व पर विशेष तौर पर इस पवित्र सरोवर में प्राकृतिक ऊष्मा से गर्म सरोवर में स्नान करते है, सूर्य देवता को अर्घ्य देते है.यह सरोवर है पटना से 100 किमी उत्तर में पहाड़ियों और घने जंगलों के बीच बसे तीर्थ स्थल राजगीर में जहा के“ब्रह्मकुन्ड” का पानी काफी गर्म यानी 45 डिग्री तक गर्म रहता है और यह औषधीय गुणों से भी भरपूर है.
यहाँ के वैभव पर्वत की सीढ़ियों पर मंदिरों के बीच गर्म जल के कई झरने (सप्तधाराएं) हैं जहां सप्तकर्णी गुफाओं से जल आता है। इन झरनों के पानी में कई चिकित्सकीय गुण होने के प्रमाण मिले हैंऔर पर्यटकों की भीड़ को आकर्षित करता है। । इनमें “ब्रह्मकुन्ड” का पानी सबसे गर्म (45 डिग्री से.) होता है।। ब्रह्मकुंड व्यापक रूप से प्रख्यात औषधीय गुणों वाले गर्म पानी के झरने के लिए जाना जाता है यहां मकर संक्रांति के मौके पर लोग डुबकी लगाने पहुंचते हैं।
मान्यता है कि भगवान ब्रह्मा के मानस पुत्र राजा बसु ने राजगीर के ब्रह्मकुंड परिसर में एक यज्ञ कराया था। इस दौरान देवी-देवताओं को एक ही कुंड में स्नान करने में परेशानी होने लगी। तब ब्रह्मा ने यहां 22 कुंड का निर्माण कराया। वैभारगिरी पर्वत पर भेलवाडोव तालाब है, जिससे ही जल पर्वत से होते हुए यहां पहुंचता है। इस पर्वत में कई तरह के केमिकल्स जैसे सोडियम, गंधक, सल्फर हैं। कहा जाता है की इसी कारण यहां का पानी गर्म होता है।
राजगीर एक प्रसिद्ध धार्मिक पौराणिक साहित्य के अनुसार राजगीर बह्मा की पवित्र यज्ञ भूमि, संस्कृति और वैभव का केन्द्र तथा जैन तीर्थंकर महावीर और भगवान बुद्ध की साधनाभूमि रहा है।जैन परम्परा के अनुसार महावीर का निवास स्थल विपुलगिरि के गुणशीलक (गुणशील) चैत्य में था। उन्होंने अपने चौदह वर्षावास राजगृह में व्यतीत किये थे। दिगम्बर परम्परा के अनुसार महावीर ने अपना प्रथम धर्मोपदेश विपुलगिरि पर दिया था। वे अनेक बार इस पहाड़ी पर आये और अपना धर्मोपदेश दिया यहां हिन्दु, जैन और बौद्ध तीनों धर्मों के धार्मिक स्थल हैं। बौद्ध धर्म से इसका बहुत प्राचीन संबंध है। बुद्ध न सिर्फ़ कई वर्षों तक यहां ठहरे थे बल्कि कई महत्वपूर्ण उपदेश भी यहां की धरती पर दिये थे। बुद्ध के उपदेशों को यहीं लिपिबद्ध किया गया गया था और पहली बौद्ध संगीति भी यहीं हुई थी।वी एन आई

Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें