Breaking News
कोहली आईसीसी रैंकिंग में शीर्ष पर कायम, कुलदीप शीर्ष 10 में शामिल         ||           आज का दिन : राजेश खन्ना         ||           राष्ट्रपति, उप-राष्ट्रपति और राज्‍यपालों की गाड़ियों पर अब जल्‍द दिख सकती है नंबर प्लेट         ||           रणबीर कपूर ने कहा मैं माचो हीरो बनने के काबिल नहीं हूं         ||           आईओए ने कोर्ट के आदेश के बाद एशियन गेम्स 2018 में हैंडबॉल टीम को दी मंजूरी         ||           जॉन अब्राहम ने कहा पहले असफलता से डरता था, लेकिन अब कोई डर नहीं         ||           सेंसेक्स 147 अंक की गिरावट पर बंद         ||           सरकार ने गन्ने का समर्थन मूल्य 255 से बढाकर 275 रुपये प्रति क्विंटल किया         ||           वायु सेना का मिग-21 एयरक्राफ्ट हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा में दुर्घटनाग्रस्त         ||           इंग्लैंड के खिलाफ पहले तीन टेस्ट मैचों के लिए भारतीय टीम की घोषणा         ||           अविश्वास प्रस्ताव पर विपक्षी एकता के खिलाफ एनडीए सरकार की होगी पहली परीक्षा         ||           इमरान की पार्टी को आतंकी संगठन ने दिया समर्थन         ||           आरएलएलपी ने बीजेपी से बिहार में जदयू से अधिक सीटें और एनडीए नेता का पद मांगा         ||           पहलवान साजन ने जूनियर एशियाई चैंपियनशिप में जीता स्वर्ण         ||           कप्तान विराट कोहली ने कहा बल्लेबाज रहे हार की वजह         ||           राहुल गांधी ने भाजपा से पूछा, वो कौन है जो कमजोरों को तलाशकर कुचल देता है         ||           ग्रेटर नोएडा में इमारत गिरने से तीन की मौत         ||           संसद का मानसून सत्र आज से         ||           शेयर बाजार के शुरूआती कारोबार में तेजी का असर         ||           इंग्लैंड ने फिर पकड़ा जीत वाला रुट, भारत को 8 विकेट से हराकर सीरीज 2-1 से जीती         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> सिगरेट के खाली पैकेट पर लिखा गया था -ऐ मेरे वतन के लोगों

सिगरेट के खाली पैकेट पर लिखा गया था -ऐ मेरे वतन के लोगों


Vniindia.com | Wednesday March 11, 2015, 10:32:24 | Visits: 80







नयी दिल्ली (सुनील जैन वीएनआई) महान गीतकार व कवि प्रदीप ने देशभक्ति के प्रयाय बन चुके अमर गीत \"ऎ मेरे वतन के लोगों\" का मुखड़ा मुंबई में समंदर के पास टहलते हुए सिगरेट के एक खाली पैकेट पर लिखा था . समुद्र तट पर टहलते टहलते उनके जहन में इस गीत का मुखड़ा कौंधा , झट से उन्होने सामने एक पान विक्रेता से वहाँ पड़ा सिगरेट का खाली पैकेट व् पेन लिया और आनन फानन मे लिख डाला यह नायाब मुखड़ा !

प्राप्त जानकारी के अनुसार चीन से धोखे मे मिली हार और शहीद शैतान सिंह व् अन्य शहीदों की शहादत उनके जहन में कई दिनों से उथल पथल मचा रही थी उसी जज्बे को उन्होंने इस गीत में पिरोया, विशेषकर गीत की यह पंक्ति \"दस दस को एक ने मारा, जब अंत समय आया तो \". उसी उथल पुथल मे वे घर लौटे और घर आ कर उन्होंने गीत पूरा किया. उन्होंने संगीतकार सी. रामचंद्र से इस गीत को संगीतबद्ध करने का आग्रह किया व् लता मंगेशकरजी की आवाज में रिकॉर्ड कराया, ये वही गीत है जिसने देशवासियों को चीन से हार के बाद एक नया हौसला, बल और एक नया जोश दिया था. कवि प्रदीप के अन्य देशभक्ति गीत पहले ही लोगों की जबान पर चढ़ चुके थे ,और ये गीत देशभक्ति का सरताज गीत बन गया.





जनवरी 1964 में जब ये गीत लताजी ने दिल्ली के नेशनल स्टेडियम में पंडित नेहरू के सामने एक जन सभा मे गाया तो नेहरूजी की आँखमें आंसू भर गए उन्होंने लताजी से पूछा ये गीत किसने लिखा है जब उन्हें पता लगा की इसके गीतकार कवि प्रदीप है जोकि उस कार्यक्रम में मौजूद नहीं थे तब उन्होंने कवि प्रदीप से मिलने की इच्छा जाहिर की !कवि प्रदीप से नेहरूजी
मुंबई में एक कार्यक्रम के दौरान मिले और उन्होंने प्रदीपजी को इस गीत पर बधाई दी !नेहरू जी ने प्रदीपजी को बताया की आपके लिखे कई गीत इन्दु (इंदिरा गांधी ) अक्सर गुनगुनाती हैं

प्रदीपजी के मशवरे पर इस गीत का पारिश्रमिक गीत से जुड़े किसी भी व्यक्ति ने नहीं लिया सारा पैसा शहीदों के परिवारों व अन्य फौजियों को दिया गया. प्रदीपजी का कहना था की \"जिस गीत के चारों तरफ देश के प्रधान मंत्री के आंसुओं की झालर पहना दी है अब वो गीत हमारा नहीं रहा ,पूरे राष्ट्र का हो गया है. गौरतलब है कि कवि प्रदीप का असली नाम \"राम चन्द्र नारायणजी द्विवेदी \" था उनका जन्म 1915 में उज्जैन (म प्र ) में हुआ था !फिल्मों में आने से पहले वे कवि सम्मेलनों की शान बन चुके थे उनकी कविताओं गीतों व उनकी ओजस्वी शैली ने अपना रुतबा कायम कर लिया था. उनके देशभक्ति गीत \"दूर हटो ऐ दुनिया वालोँ \" ने अंग्रेज सरकार की नींद उड़ा दी थी और उनकी गिरफ़्तारी के वारंट निकल दिए गए थे और काफी दिनों तक गिरफ़्तारी से बचते रहे थे ! 1997 में उन्हें दादा साहेब फाल्के पुरस्कार \" से नवाजा गया !दिस. 1998 को इस ओजस्वी कवि ने दुनिया को अलविदा कह दिया

Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें