Breaking News
मनमोहन सिंह ने राफेल मामले पर कहा दाल में कुछ काला जरूर है         ||           जम्मू कश्मीर में बात सरकार की         ||           सेंसेक्स 275 अंक की गिरावट पर बंद         ||           जम्मू एवं कश्मीर में कांग्रेस-पीडीपी और उमर मिलकर बना सकते है सरकार         ||           राहुल गाँधी से तेलंगाना के सबसे अमीर सांसद ने मुलाकात की         ||           पेंटागन ने कहा पाक को दी जाने वाली 1.66 बिलियन डॉलर की मदद पर लगी रोक         ||           आप विधायक सोमनाथ भारती ने महिला एंकर को आपत्तिजनक शब्द कहे         ||           तेलंगाना में प्राइवेट जेट क्रैश हुआ, पायलट सुरक्षित         ||           अक्षय कुमार आज पंजाब एसआईटी के सामने आज पेश होंगे         ||           केरल कांग्रेस के कार्यवाहक अध्यक्ष एमआई शानवास का निधन         ||           देश के शेयर बाज़ारो के शुरूआती कारोबार में गिरावट का असर         ||           हिज्बुल मुजाहिदीन का आतंकी दिल्ली में गिरफ्तार         ||           केंद्रीय मंत्री हरिभाई चौधरी ने कहा अगर आरोप सही हुए तो राजनीति छोड़ दूंगा         ||           एमसी मैरीकॉम वर्ल्ड चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में         ||           अमृतसर ब्लास्ट मामले में दो संदिग्ध छात्र बठिंडा से गिरफ्तार         ||           सचिवालय में मुख्यमंत्री केजरीवाल पर मिर्च पाउडर से हमला         ||           सेंसेक्स 300 अंक की गिरावट पर बंद         ||           सुषमा स्वराज ने कहा नहीं लड़ेंगी अगला लोकसभा चुनाव         ||           अशोक गहलोत ने कहा वसुंधरा ने जोधपुर के साथ किया सौतेला बर्ताव         ||           क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने कहा स्टीव स्मिथ और डेविड वॉर्नर पर प्रतिबंध रहेगा बरकरार         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> \'घंटेवाला मिठाई\': इतिहास बन गई 225 वर्ष पुरानी दिल्ली की दुकान

\'घंटेवाला मिठाई\': इतिहास बन गई 225 वर्ष पुरानी दिल्ली की दुकान


Vniindia.com | Thursday July 02, 2015, 12:52:16 | Visits: 2373







नई दिल्ली, २ जुलाई (अनुपमाजैन,वीएनआई) तो पिछले 225 साल का शानदार इतिहास यानि चॉदनी चौक की शान और दिल्ली की मशहूर मिठाई की दुकान \'घंटेवाला दुकान\' कल इतिहास के पन्नो मे दर्ज़ हो गयी गयी, \'घंटेवाला दुकान\' कल बंद हो गई और साथ ही बंद हो गया राजधानी के एक इतिहास का एक अध्याय. कल जब इस दुकान मे रखे मिठाईयो के रेक आदि सामान को दुकान से बाहर निकाला जा रहा था तो वहा एकत्रित काफी लोगो की ऑखे नम् हो गयी. भावुक होते हुए दुकान के मालिक सुशांत जैन ने कहा \'ये एक मुश्किल फैसला था. हम आठ पुश्तों से इस दुकान को चलाते आ रहे हैं, लेकिन इसकी घटती बिक्री के चलते ये फैसला लेना पड़ा.\'

इस क्षेत्र के स्थानीय बुजुर्गो के अनुसार यहां राजीव गांधी, मोहम्मद रफी तक आ चुके हैं. तत्कालीन प्रधान मंत्री जवाहर लाल नेहरू के वक्त यहा की मिठाईया नियमित रूप से प्रधान मंत्री निवास मे देशी विदेशी मेहमानो की मेहमाननवाजी वाली दावतो के लिये भेजी जाती थी. पूर्व प्रधान मंत्री मोरारजी देसाई तो यहां जलेबी खाने आते थे और पैक भी करवाकर ले जाते थे. यही नहीं, पर्यटकों के लिए ये एक देखने की जगह थी. \'पुरानी दिल्ली की सैर कर्यक्रम\' का यह दुकान जरूरी हिस्सा थी. आसपास के लिए व्यापारियों के लिए ये एक लैंडमार्क बन गया था. यहां रहने वाले लोगों का कहना है कि दो दशक पहले यह दुकान दो भाईयों में बंट गई थी जहां बड़े भाई ने अपने शेयर कई साल पहले ही बेच दिए थे वहीं दूसरे भाग को सुशांत चला रहे थे। स्थानीय निवासियों का कहना है कि पिछले दशक में दुकान का बिजनेस कम होने लगा . इस नाम के पीछे भी काफी रोचक कहानिया छुपी हुई है कि इस दुकान के पास एक स्कूल हुआ करता था और उस स्कूल की घंटी की आवाज़ लाल किले तक सुनाई पड़ती थी। तत्कालीन मुगल शासक शाह आलम द्वितीय जब उस घंटी की आवाज़ सुनते थे तो वे अपने सहायको से उस घंटे के नीचे वाली दुकान से मिठाई लाने के लिए कहते थे। तब से उस दुकान का नाम घंटेवाला पड़ गया। ुस जमाने को याद करने वाले लोग बताते है कि कभी इस दुकान की मिठाईयो की खुशबू पूरे आस पास ्के माहौल को खुशबू से तर कर देती थी

पहले इस दुकान के मालिक लाला सुखलाल जैन थे जो आमेर, राजस्थान के रहने वाले थे। कई पीढ़ियों से चली आ रही इस दुकान के मालिक अब सुशांत जैन हैं। पिस्ते वाला देशी घी का सोन हलवा दुकान की विशेष मिठाई मानी जाती रही है। इसके साथ ही पिस्ता बादाम बर्फी,मोतीचूर के लड्डू दाल मोठ और आलू का लच्छा समेत 50 किस्मों की मिठाई हैं।\" न्/न केवल भारत मे बल्कि ्विदेशो मे रहने वाले कद्रदान भी यहा की मिठाई ले कर जाते थे. चांदनी चौक की इस मशहूर दुकान पर स्वादिष्ट मिठाई खाने वाले ग्राहकों की भीड़ हमेशा बनी रहती है।

घंटेवाला मिठाई की दुकान को बंद होना पुरानी दिल्ली की परंपरा का नुकसान मानते हैं. इतिहासकारों का कहना है कि ये दुकान शाहजहानाबाद की अमूर्त विरासत थी. इस दुकान का जिक्र महमूद फारुकी की किताब \'बिसीज्ड\' में भी था.

गौरतलब है कि साल 1954 में आई हिंदी फिल्म \'चांदनी चौक\' में मीना कुमारी के कई सीन इस मिठाई के दुकान के सामने थी. तो खत्म हुई एक पुरानी पहचान, अंत हुआ पुरानी दिल्ली के एक अध्याय का. रह गई यादे घंटेवाला मिठाई की दुकान की.वी एन आई

Latest News




कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें