Breaking News
किडनी-लिवर बेचने वाले गिरोह का कानपुर पुलिस ने किया पर्दाफाश         ||           सहमति शिव सेना और बीजेपी में         ||           कुलभूषण जाधव केस मे इंटरनेशन कोर्ट में सुनवाई शुरू         ||           राहुल की मौजूदगी मे कांग्रेस में शामिल हुए सांसद कीर्ति आजाद         ||           मारा गया पुलवामा आतंकी हमले का मास्टरमाइंड ग़ाज़ी         ||           आज का दिन :         ||           आज का दिन :         ||           वायु शक्ति-2019         ||           क्रिकेट क्लब ऑफ इंडिया का अनूठा विरोध         ||           पुलवामा हमला-कश्मीर के पॉच अलगाववादी नेताओं की सुरक्षा हटाई गई         ||           महानायक शहीदों की आर्थिक मदद के लिए आगे आए हैं.         ||           Hyderabad Special Tomato Chutney         ||           ब्रिटेन ने अपने नागरिकों को पाकिस्तान से सटे सीमाई इलाकों से दूर रहने की सलाह दी         ||           पुलवामा आतंकी हमले पर चीन की संवेदना में पाकिस्तान व जैश का जिक्र नही         ||           ठोको ताली-सिद्धू का कपिल शर्मा शो से जाना पहले से तय था         ||           प्रधानमंत्री मोदी ने कहा हम छेाड़ते नहीं, किसी ने छेड़ा तो छोड़ते नहीं         ||           राजनाथ सिंह ने इंटेलीजेंस के अफसरों से मुलाकात की         ||           वंदे भारत एक्सप्रेस         ||           लोकसभा चुनाव की तारीखों के बाद जारी होगा IPL 2019 का कार्यक्र्म         ||           सब दलों कि मीटिंग बैठक में गृह मंत्री बोले- सुरक्षा बलों को पूरी छूट         ||           
close
Close [X]
अब तक आपने नोटिफिकेशन सब्‍सक्राइब नहीं किया है. अभी सब्‍सक्राइब करें.

Home >> 117 वर्षीय बुजुर्ग ताउम्र अपने जन्म सर्टिफिकेट के लिये भटकती रही, मिलते ही चल बसी

117 वर्षीय बुजुर्ग ताउम्र अपने जन्म सर्टिफिकेट के लिये भटकती रही, मिलते ही चल बसी


Vniindia.com | Friday July 01, 2016, 07:15:36 | Visits: 713







मेक्सिको सिटी,1 जुलाई(अनुपमा जैन/वीएनआई)नियति का चक्र, 117 वर्षीय बुजुर्ग ताउम्र अपना जन्म सर्टिफिकेट पाने के लिये भटकती रही. आखिर 117 वर्ष की उम्र मे उन्हे जन्म सर्टिफिकेट मिला लेकिन कुछ ही घंटो बाद जब वे एक हाथ मे जन्म सर्टिफिकेट लिये हुए थी तभी उन्हे दिल का दौरा पडा और वे चल बसी.
जन्म सर्टिफिकेट नही होने पर उन्हे वृद्धो के लिये सरकार द्वारा दी जाने वाली पेंशन और अन्य सुविधाये नही मिल पाई.अल्वारेज लीरा का जन्म 1898 मे हुआ था. लेकिन तमाम कौशिशो के बावजूद उन्हे जन्म सर्टिफेकेट नही मिल पाया. शहर के समाजिक विकास विभाग के अनुसार इसी सप्ताह उन्होने सुश्री लीरा को जन्म् दिन का सर्टिफिकेट देने का फैसला कर लिया था.सर्टिफिकेट उन्हेमिल भी गया, लेकिन कल जब सर्टिफिकेट उनके हाथ मे था तभी वे चल बसी, यानि वृद्धावस्था की पेंशन का एक भी चेक उन्हे नही मिल पाया.कौन जाने वे किस आर्थिक स्थति मे रही और उसी मे दुनिया को अलविदा कर गई. वीएनआई

Latest News



Latest Videos



कमेंट लिखें


आपका काममें लाइव होते ही आपको सुचना ईमेल पे दे दी जायगी

पोस्ट करें


कमेंट्स (0)


Sorry, No Comment Here.

संबंधित ख़बरें